उपमंडल पालमपुर में एक खेल मैदान में सभी खेलों को खेलने के लिए मजबूर खिलाड़ी

पालमपुर: उपमंडल पालमपुर में खिलाड़ियों की सुविधा के लिए एकमात्र खेल मैदान शहीद कैप्टन विक्रम बत्तरा ग्राउंड के अतिरिक्त गांधी ग्राउंड में बॉस्केटबाल कोर्ट स्थापित किया गया है। मगर खिलाड़ियों को अलग-अलग खेलों के लिए बत्तरा मैदान का ही इस्तेमाल करना पड़ता है।मैदान में  वॉलीबाल, फुटबाल और क्रिकेट का खेल एकसाथ खेला जाता है। जिससे खिलाड़ियों पर हर समय चोट लगने का भय बना रहता है । हालांकि मैदान में अभी तक कोई ऐसी गंभीर चोट का मामला सामने नहीं आया है, लेकिन मामूली चोटों से खिलाड़ियों को आये दिन गुजरना पड़ता है |पालमपुर में एक बेहतर मैदान की कमी के बावजूद कई खिलाड़ी राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपना लोहा मनवा चुके हैं।

लंबे समय से पीसीए से संबंधता क्रिकेट अकादमी के तहत उभरते खिलाड़ी मैदान में अभ्यास करते हैं तथा कई  छात्राएं भी इसमें शामिल होकर अपनी प्रतिभा निखार रहीं हैं। लेकिन उपमंडल के अधिकतर त्यौहार व राजनीतिक रैलियों के चलते खिलाड़ियों को कई दिनों तक खेल मैदान से वंचित रहना पड़ता है।

वहीं गांधी ग्राउंड में बास्केटवाल की राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं का आयोजन हो चुका है।उपमंडल पालमपुर में खिलाड़ियों को राष्ट्रीय खेल हॉकी के लिए कोई मैदान नहीं है। ऐसे में युवाओ में हॉकी का दिलचस्प  बिल्कुल ही खत्म हो चुका है। क्षेत्र में इनडोर खेल परिसर की अनेकों बार घोषणाएं हुईं मगर अभी तक इसमें कोई भी प्रगति नहीं हो पाई है। नगर परिषद ने पिछले दिनों बत्तरा मैदान को समतल करते हुए 50 लाख रुपये से सौंदर्यीकरण किया है।उधर नगर परिषद अध्यक्ष राधा सूद ने बताया कि नगर परिषद क्षेत्र में दो खेल मैदान स्थापित हैं और इनका वर्तमान में सुंदरीकरण भी हो रहा है। उन्होंने बताया कि नगर परिषद ने अपने स्तर पर वार्ड-5 में पार्किंग के ऊपर इनडोर खेल परिसर की प्रस्तावना तैयार की है। स्थानीय विधायक ने भी इसके निर्माण में सहयोग का भरोसा दिलाया है। यदि सफलता मिली तो युवाओं को अतिरिक्त खेल सुविधा प्रदान होगी। अब नगर निगम गठन में भी इसके लिए प्रयास किए जाएंगे।

Like Our Page
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be the first to comment on "उपमंडल पालमपुर में एक खेल मैदान में सभी खेलों को खेलने के लिए मजबूर खिलाड़ी"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*