शिक्षकों के माइक्रो प्लान पर निर्भर करेगा हिमाचल में स्कूलों का खुलना

हिमाचल प्रदेश शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने बताया कि स्कूल खोलने के लिए अभिभावकों का परामर्श लेना जरूरी है | शुक्रवार से सरकारी स्कूलों में शुरू होने वाली ई पीटीएम में सात लाख अभिभावकों की शिक्षकों द्वारा सुझाव लिए जाएगे। स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या और कमरों की स्थिति के अनुसार शिक्षक अपना प्लान बनाएंगे। हिमाचल में स्कूलों का खुलना शिक्षकों के माइक्रो प्लान पर निर्भर करेगा।

शिक्षा विभाग स्कूल खोलने का प्रस्ताव मंत्रिमंडल की बैठक में लेकर जाएगा। गुरुवार को यू ट्यूब के माध्यम से शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने शिक्षकों, विद्यार्थियों और अभिभावकों के साथ संवाद किया। इस दौरान अधिकांश बच्चे स्कूल खोलने के हक में दिखे। कुछ अभिभावकों ने भी नियमित कक्षाएं शुरू करने की बात कही जबकि कुछ अभिभावकों ने कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने का हवाला देते हुए स्कूल बंद रखने और ऑनलाइन पढ़ाई को ही जारी रखने की वकालत की।शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में स्कूल खुलने पर प्रार्थना सभाएं नहीं होगी। ऐसे में कक्षाओं में जाकर दो मिनट की प्रतिज्ञा लेने की शुरूआत की जाएगी। इसमें शारीरिक दूरी रखने, फेस मास्क पहनने। हर पीरियड के बाद हाथ बीस सेकेंड के लिए धोने, हाथों को सेनेटाइज करने, स्कूल से सीधे घर जाने, घर-परिवार और आसपड़ोस को जागरूक करने, स्कूल से घर पहुंचते ही पहले अपनी साफ सफाई करने और परिजनों से सीधे जाकर ना मिलने की प्रतिज्ञा रोजाना ली जाएगी।

Like Our Page
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be the first to comment on "शिक्षकों के माइक्रो प्लान पर निर्भर करेगा हिमाचल में स्कूलों का खुलना"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*