भारत को मिला अमेरिका का साथ, कहा- China army का मुकाबला करने को तैयार

Ladakh में China की आक्रामक कार्रवाई के बाद America ने China को Bharat समेत कई देशों के लिए खतरा बता दिया है. America के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने ऐलान किया है कि China Army के खतरे से निपटने के लिए America Asia में अपने सैनिकों की तैनाती बढ़ाएगा. बेकाबू होते जा रहे china की घेराबंदी अब तय हो गई है.


Ladakh में India के मुंहतोड़ जवाब का सामना कर रहे China को सबक सिखाने के लिए अब America भी खुलकर सामने आ गया है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने ऐलान किया है कि china के आक्रामक रुख का जवाब देने के लिए America asia में अपनी फौज को बढ़ाने जा रहा है.

India और अपने मित्र देशों के लिए China को खतरा बताने वाले पोम्पियो ने China को चेतावनी दी कि ज़रूरत पड़ी तो American Army उसकी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी से मुकाबला करने को तैयार है.|

America की ये warning खोखली नहीं है. चीन के आस-पास अमेरिका के इतने Base मौजूद हैं कि वो dragon को आसानी से घुटने टेकने पर मजबूर कर सकता है. America ने पहले ही Taiwan के करीब अपने 3 Nuclear aircraft carrier को तैनात कर दिया है. जिसमें से 2 Taiwan और बाकी मित्र देशों के साथ युद्धाभ्यास कर रहे हैं, वहीं 3rd aircraft carrier Japan के पास गश्त लगा रहा है.

प्रशांत महासागर में तैनात ये 3 विमान वाहक हैं UAS थियोडोर रूजवेल्ट, यूएसएस निमित्ज और यूएसएस रोनाल्ड रीगन हैं. एक अनुमान के मुताबिक पूरे एशिया में China के चारों ओर 2 लाख से ज्यादा अमेरिकी सेना के जवान तैनात हैं. वहीं पॉम्पियो के ताजा बयान के बाद चीन की घेराबंदी कसी जा रही है|

राष्ट्रपति ट्रंप के निर्देश पर America -Germany में मौजूद अपने 52 हजार सैनिकों को घटाकर 25 हजार कर रहा है. इन सैनिकों को एशिया में China का मुकाबला करने के लिए तैनात किया जाएगा|

American रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, america के दुनिया में करीब 800 सैन्य ठिकाने हैं. लेकिन China की घेराबंदी के लिए मालदीव में डियेगो गार्सिया में अमेरिकी और British Navy army का base मौजूद है. वहीं Singapur ,Taiwan , दक्षिण कोरिया, गुआम और जापान में भी अमेरिका का सैन्य ठिकाना है. बता दें कि JAPAN में 10 अलग-अलग बेस पर 1 लाख से ज्यादा American Army तैनात हैं और यहां से America South चीन सागर पर नजर रखता है.

इन ठिकानों के अलावा सैकड़ों ठिकाने ऐसे हैं, जो छोटे-छोटे Ireland पर America ने बना रखे हैं. उनमें कुछ artificial यानी कृत्रिम तौर पर बनाए गए Ireland भी हैं. America की इस घेराबंदी से China हमेशा से ही बेचैन रहा है लेकिन America ने इन देशों में अपने सैन्य ठिकाने इस वजह से बना रखे हैं कि इनमें से कई उसके मित्र देश हैं जिनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी उस पर है. चूंकि China_Indian समेत इन देशों के लिए खतरा बन गया है. लिहाजा America ने उसकी नकेल कसनी शुरू कर दी है.

Japan से America की संधि है और दूसरे विश्व युद्ध के बाद से ही वहां अमेरिका की Navy , Army और Air force मौजूद है. South Koria को उत्तर कोरिया के कोप से बचाने के लिए America ने वहां अपने सैनिक तैनात कर रखे हैं. Philippines ने अमेरिका के साथ दो दशक पुराने करार को आगे बढ़ाकर American army की तैनाती को मंजूरी दे दी है.

इन देशों के अलावा माइक पोम्पियो ने वियतनाम, मलेशिया और इंडोनेशिया की सुरक्षा का हवाला देकर उनके साथ खड़े होने का साफ संकेत दे दिया है. वहीं, जापान-अमेरिका साझा युद्धाभ्यास से तिलमिलाए चीन की परेशानी अब और बढ़ने वाली है.

Like Our Page
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be the first to comment on "भारत को मिला अमेरिका का साथ, कहा- China army का मुकाबला करने को तैयार"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*