Himachal मे डेढ़ लाख सरकारी कर्मियों का सस्ता राशन बंद करने की प्रक्रिया शुरू

हिमाचल प्रदेश सरकार ने टैक्स धारकों का डिपुओं से राशन बंद करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। खाद्य आपूर्ति विभाग उन डेढ़ लाख सरकारी कर्मचारियों का रिकॉर्ड जुटा रहा है, जो टैक्स भरते हैं। साथ ही कारोबारियों और अन्य टैक्स धारकों की सूची तैयार की जाएगी।  

कैबिनेट ने एपीएल कार्डधारकों को दी जाने वाली सब्सिडी को भी आधा कर दिया है। यह फैसला इसलिए लिया गया है ताकि इनकम टैक्स के दायरे में आने वाले लोगों को पीडीएस योजना से बाहर कर एपीएल के उन लोगों को भारतीय खाद्य सुरक्षा योजना में शामिल किया जा सके, जो बीपीएल से थोड़े ऊपर हैं और एपीएल में सबसे नीचे आते हैं।

हिमाचल में अभी 18.5 लाख राशनकार्ड उपभोक्ता हैं। इनमें साढ़े पांच लाख राशनकार्ड परिवार गरीब परिवार से हैं। राशनकार्ड उपभोक्ताओं को आटा, चावल के अलावा तीन दालें, (मूंग, माश और दाल चना) एक किलो नमक, दो लीटर तेल सब्सिडी पर दिया जाता है।

अब बीपीएल की तरह साढ़े तीन रुपये प्रति किलो की दर से आटा और दो रुपये प्रति किलो की दर से चावल दिया जाएगा। बीपीएल और प्राथमिकता वाले परिवारों के लाभार्थियों के चयन के लिए आय सीमा भी बढ़ाकर मंत्रिमंडल ने 45000 रुपये मासिक कर दी है। हिमाचल प्रदेश की जयराम ठाकुर ने यह फैसला लिया है कि अब INCOME TAX देने वालो को अब डिपो मे सस्ता राशन नहीं दिया जायेगा |

Like Our Page
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be the first to comment on "Himachal मे डेढ़ लाख सरकारी कर्मियों का सस्ता राशन बंद करने की प्रक्रिया शुरू"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*