इस्लामाबाद में बन रहे कृष्ण मंदिर के खिलाफ जारी हुआ फतवा

पाकिस्तान में इस्लामाबाद पहले Krishan Temple के निर्माण की process ठीक से शुरू भी नहीं हो पाई कि वहां इसका विरोध शुरू हो गया. हालत ये है कि इस temple निर्माण के खिलाफ फतवा जारी कर दिया गया है|


दरअसल, पिछले हफ्ते ही इस Krishan Temple की एक wall की नींव रखी गई थी. PM Imran Khan ने इसके लिए 10 करोड़ रुपए की मंजूरी भी दे दी थी. लेकिन अब इसका विरोध शुरू हो गया है|

Pakistan के ‘नया दौर TV ‘ के मुताबिक धार्मिक संस्थान जामिया अशर्फिया temple बनाने के खिलाफ फतवा जारी कर दिया है. संस्थान ने मंगलवार को कहा कि krishan temple निर्माण Islam के खिलाफ है|

जामिया अशर्फिया के प्रमुख मुफ्ती जियाउद्दीन ने कहा कि गैर मुस्लिमों के लिए temple या अन्य धार्मिक स्थल बनाने के लिए govt fund नहीं किया जा सकता. लोगों के tax के पैसे को मंदिर निर्माण में खर्च करना govt के decision पर सवाल खड़े करता है|

इतना ही नहीं इस temple निर्माण के खिलाफ इस्लामाबाद high court में याचिका भी दायर की गई. हालांकि Islamabad high court ने temple निर्माण पर stay order से इनकार कर दिया है. अदालत ने कहा कि Pakistan में अल्पसंख्यकों को भी धार्मिक आजादी का उतना ही अधिकार है जितना कि बहुसंख्यकों को.

उधर इस Krishan Temple के प्रबंधन का काम देख रही Hindu Panchyat Islamabad के लाल चंद्र माल्ही का कहना है कि विरोध के बावजूद मंदिर का निर्माण जारी रहेगा. लाल चंद्र माल्ही Pakistan के मानवाधिकारों के संसदीय सचिव भी हैं|

मालूम हो कि 10 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले श्री Kirhsna के temple का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है. temple राजधानी के एच-9 क्षेत्र में 20 हजार वर्ग feet में बनाया जाएगा. मंगलवार को लाल चंद्र माल्ही ने इस मंदिर की आधारशिला रखी थी|

Islamabad Hindu Panchyat ने ही इस temple का नाम Sri Krishana Temple रखा है. इस temple के लिए वर्ष 2017 में जमीन दी गई थी लेकिन कुछ औपचारिकताओं की वजह से 3 साल लटक गया था. report के मुताबिक इस temple परिसर में एक अंतिम संस्कार स्थल भी होगा. इसके अलावा अन्य हिंदू मान्यताओं के लिए अलग जगह बनाई जाएगी.|

Like Our Page
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be the first to comment on "इस्लामाबाद में बन रहे कृष्ण मंदिर के खिलाफ जारी हुआ फतवा"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*