कर्मचारी संघर्ष मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष प्रवीण शर्मा ने पूर्व सांसद शांता कुमार पर बोला हल्ला

हिमाचल राजकीय अध्यापक संघ प्रदेश प्रबन्धन सदस्य व कर्मचारी संघर्ष मोर्चा हिमाचल प्रदेश अध्यक्ष प्रवीण शर्मा ने जारी बयान में कहा कि हम माननीय पूर्व मुख्यमंत्री व पूर्व सांसद श्री शांता कुमार जी का सम्मान करते हैं।परंतु कर्मचारियों के प्रति उनके बयान पर खेद भी प्रकट करते हैं क्योंकि उन्होंने कभी भी कर्मचारियों की जायज मांगों का समर्थन नही किया।कर्मचारी सरकार की रीढ़ है परंतु उन्होंने हमेशा कर्मचारियों के प्रति दमनकारी नीति का प्रयोग किया।क्या कर्मचारी कोई गुलाम है जो अपने जायज हकों की मांग नही कर सकते।हम दो बार पेंशन बहाली के लिए श्री शांता जी से मिले पर एक भी बार उन्होंने हमारी आवाज आवाम तक नही पहुंचाई।हम पूछना चाहते है कि आप इस समय सरकारी खजाने से दो तरह की पुरानी पेंशन किस एवज में ले रहे है।आउटसोर्स कर्मी 15 वर्षो से ठेकेदारों की गुलामी कर रहे है ।क्या यह गुलामों का देश है जहां पढ़े लिखे बच्चों को आज तक ठेकेदारों के अधीन रखकर उनका शोषण करवाया जा रहा है पर आपने आज तक कुछ नही बोला। । 1972 एक्ट की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं जिसमे श्रम कानून , पेंशन कानून , रोजगार कानून सब लिखित हैं पर आप फिर भी चुप। काम नही तो वेतन नही अच्छी सोच है पर यह कौन सा नैतिक कार्य है जो काम कर रहे थे उनके रोजगार भी छीन लिए गए।आपने निजीकरण का समर्थन किया । आपने 30 साल पहले की बात कही जबकि उस समय आंदोलन रुका नही था बल्कि कर्मचारी नेता बिक गए थे । आप हमारे माननीय हैं हम आपका सम्मान करते है।परंतु आप कभी भी कर्मचारियों के हित में नही बोलते इसका हमें मलाल है रही बात नो वर्क नो पे की तो कर्मचारी लोग इसकी परवाह नही करते क्योंकि कर्मचारियों के जायज हकों को साजिश के तहत छीना गया है।कर्मचारियों की पेंशन को बेचा गया है।और यह बातें हमारे जनप्रतिनिधि जानते हैं।कर्मचारी लोग संविधान में लिखित जायज हकों की बात करते हैं। नाजायज कभी कुछ नही मांगते।तो सरकार को भी चाहिए कि उनके जायज हको को वापिस किया जाए ।30 साल पहले जो कर्मचारियों ने आंदोलन किया था अब उससे भी बड़ा आंदोलन होने वाला है ।अबकी बार वेतन के साथ साथ कर्मचारियों के गले भी काट देना।क्योंकि हमें ऐसे देश में नही जीना जहां समानता का अधिकार न हो।हमें करुणा मूलक आधार पर नोकरियाँ दो जो कि संविधान में लिखित है।आउटसोर्स कर्मियों के लिए पॉलिसी बनाओं। हम कर्मचारी आपके अपने है।

Like Our Page
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be the first to comment on "कर्मचारी संघर्ष मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष प्रवीण शर्मा ने पूर्व सांसद शांता कुमार पर बोला हल्ला"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*