कोरोना के खौफ के कारण बाजार में बेहोश बुजुर्ग को 3 घंटे तक नहीं मिली मदद, हो गई मौत

यह घटना South Delhi का है. जहां तपती धूप के बीच बाजार में 65 वर्षीय बुजुर्ग व्यक्ति बेहोश हो गया. 3 घंटे तक किसी ने भी उस बुजुर्ग की कोई भी मदद नहीं की. 3 घंटे बाद में उसे Hospital पहुंचाया गया, जहां उसकी death हो गई.

लोगों में corona virus का डर इस कदर बैठ चुका है कि मुसीबत के वक्त में कोई किसी की मदद करने को भी तैयार नहीं है. ऐसा ही एक मामला दिल्ली से सामने आया, जहां एक बुजुर्ग इंसान बेहोश होकर बाजार में गिर गया और 3 घंटे तक किसी ने उसकी मदद भी नहीं की.

साउथ दिल्ली के पॉश market ushuf सराय में बेहोश होकर गिरने वाले शख्स को Delhi Police के एक staff ने PPE kit पहनकर ambulance में बैठाया और 3 घंटे बाद उसे लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में ले जाया गया.

65 वर्षीय व्यक्ति पिछले साल तक अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में एक attended के रूप में काम करता था. 65 वर्षीय बुजुर्ग को दक्षिणी दिल्ली के युसूफ सराय बाजार में बेहोश होकर गिरने के बाद तीन घंटे तक कोई मदद नहीं मिली. corona virus के डर से आसपास के लोग मूकदर्शक बने रहे.

बुधवार को हुई इस घटना में दोपहर करीब 1.39 बजे एक राहगीर ने police control room को phone करके उस आदमी के बारे में जानकारी दी. South Delhi जिले के पुलिस केDeputy Commissioner अतुल कुमार ठाकुर ने कहा, ‘beat police अधिकारी ने मौके पर पहुंचकर 3 ambulance को phone किया, ताकि वह आदमी hospital पहुंच सके. ठाकुर ने कहा, ‘हमारे एक constable ने व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (PPE) किट की व्यवस्था की, उसे पहना और बेहोश आदमी को AMBULANCE में ले जाया गया.’

ठाकुर ने कहा, ‘बेहोश आदमी को पहले नजदीकी अस्पताल ले जाया गया था, लेकिन जब AMBULANCE चालक ने सलाह दी कि उसे वहां entry नहीं मिलेगा, तो उसे east delhi के लाल बहादुर शास्त्री hospital ले जाया गया. लगभग 7 बजे लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल के अधिकारियों ने कहा कि वह आदमी मर गया. हालांकि अस्पताल प्रशासन ने कहा है कि यह स्पष्ट नहीं है कि बुजुर्ग व्यक्ति corona से पीड़ित था या नहीं.

Like Our Page
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be the first to comment on "कोरोना के खौफ के कारण बाजार में बेहोश बुजुर्ग को 3 घंटे तक नहीं मिली मदद, हो गई मौत"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*