राजस्थान में शुरू हुआ कोरोना की आयुर्वेदिक medicine का क्लिनिकल ट्रायल

Ayush मंत्रालय के अधीन काम करने वाले National आयुर्वेद संस्थान ने कोरोना को लेकर 4 medicine बनाई हैं, जिनमें से एक का नाम है आयुष 64. इसे लेकर आयुष मंत्रालय उत्साहित है

corona को ठीक करने को लेकर दुनिया भर में research चल रहे हैं. कई देशों की companies medicine के बेहद करीब पहुंचने के दावे कर रही हैं. इन सबके बीच अब India में भी Ayurveda की medicines का corona के positive patients पर clinical ट्रायल शुरू हो गया है.Rajstan के Jaipur में corona के मरीजों पर Ayurveda दवाओं का परीक्षण किया जा रहा है.

जयपुर के रामगंज में 12000 लोगों पर आयुर्वेद की एक Immunity की medicine की testing भी शुरू की गई है. केंद्रीय आयुष मंत्रालय यह trial clinical research organization टीम के साथ मिलकर करा रहा है. बताया जा रहा है कि आयुष मंत्रालय के अधीन काम करने वाले राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान ने corona को लेकर चार दवाएं बनाई हैं, जिनमें से एक का नाम है आयुष 64. इसे लेकर आयुष मंत्रालय उत्साहित है.

National Ayurveda संस्थान Jaipur ने corona के मरीजों पर इसका clinical trial शुरू किया है. यह clinical trial covid -19 के प्रथम stage के मरीजों पर जयपुर के एक private hospital में किया जा रहा है. आयुर्वेद संस्थान के निदेशक संजीव शर्मा का कहना है कि यह दवा सामान्य तौर पर पहले मलेरिया के लिए दी जाती थी, लेकिन इसमें कुछ बदलाव के साथ कोरोना के मरीजों को दी जा रही है.

केंद्र सरकार की मंशा प्रदेश सरकार के साथ मिलकर सरकारी hospitals में clinical tria करने की थी, लेकिन गहलोत सरकार ने इसकी इजाजत नहीं दी है. ऐसे में दवा का ट्रायल armed person पर किया जा रहा है. इस संबंध में प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने कहा कि हमने इसकी इजाजत के लिए फाइल राज्यपाल को भेजी है. सूत्रों के अनुसार राजस्थान सरकार की ओर से यह सवाल उठाया जा रहा है कि भारत सरकार इसका clinical trial आखिर दिल्ली में क्यों नहीं कर रही है?

Like Our Page
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be the first to comment on "राजस्थान में शुरू हुआ कोरोना की आयुर्वेदिक medicine का क्लिनिकल ट्रायल"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*