China हमले में घायल जवान की आंखों देखी, बताया गलवान घाटी में उस रात क्या हुआ था?

लद्दाख की गलवान घाटी में China और Bharat के सैनिकों के बीच हुए खूनी संघर्ष में जवान सुरेंद्र सिंह घायल हो गए थे. उनका treatment लद्दाख के Army Hospital में चल रहा है, जहां उन्हें 12 घंटे बाद होश आया. इसके बाद उन्होंने गलवान घाटी में हुए पूरे घटनाक्रम के बारे में बताया. साथ ही पहली बार किसी घायल ने china के पूरे षडयंत्र की दास्तान भी बयां की है.

फौजी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि China सैनिकों ने धोखे से गलवान घाटी से निकलने वाली नदी पर अचानक Indian Soldiers पर हमला कर दिया. करीब 4 से 5 घंटे तक नदी में ही सैनिकों के बीच खूनी संघर्ष चलता रहा. उस वक्त भारत के करीब 2 से ढाई सौ जवान मौजूद थे. जबकि चीन के 1000 से अधिक जवान थे.

गलवान घाटी की नदी में हाड़-मांस को गला देने वाले ठंडे पानी में यह संघर्ष चलता रहा. उनका कहना था कि जहां यह संघर्ष हुआ उस नदी के किनारे मात्र एक आदमी के लिए निकलने की जगह थी. इसलिए भारतीय सैनिकों को संभलने में भारी परेशानी हुई नहीं तो भारतीय सैनिक किसी से कम नहीं थे. भारतीय सैनिक भी चीन के सैनिकों को अच्छा सबक सिखा सकते थे लेकिन हम पर उन्होंने साजिश के तहत और धोखे से हमला किया.

उन्होंने phone पर बताया कि अब वह स्वस्थ हैं और लद्दाख के सैनिक हॉस्पिटल में उनका इलाज चल रहा है. उनके एक हाथ में fracture है और सिर में करीब 12टांके लगे हैं. उन्होंने उस घटना का जिक्र करते हुए कहा कि 5 फुट गहरे पानी में करीब 5 घंटे चले संघर्ष में सिर में चोट लगने से वह घायल हो गए थे और अन्य सैनिकों ने उन्हें बाहर निकाला. उन्हें तब तक होश था इसके बाद उन्हें लद्दाख के हॉस्पिटल में ही आकर करीब 12 घंटे बाद होश आया. साथ ही उनका कहना है कि इस झगड़े में उनका मोबाइल और अन्य कागजात भी नदी के पानी में कहीं गिर गए.

जाबांज Surender Singh Rajstan के अलवर जिले के नौगांवा ग्राम के रहने वाले हैं. घटना की सूचना के बाद से परिजन चिंतित हैं. लेकिन लद्दाख के अस्पताल में भर्ती सुरेंद्र सिंह से phone पर परिजनों की बात होने के बाद उन्हें ढांढस बंधा है. परिजन ईश्वर से सभी घायल जवानों के लिए शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना कर रहे हैं. घायल जवान सुरेंद्र सिंह की पत्नी, बच्चों के साथ अलवर के सूर्य नगर नई बस्ती में रहती हैं. जबकि घायल जवान के माता पिता और भाई का परिवार गांव में रहता है.

फौजी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि भारतीय सैनिक किसी भी दुश्मन देश के सैनिकों से निपटने के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं. सैनिक सुरेंद्र सिंह के पिता बलवंत सिंह ने बताया कि बुधवार को दोपहर में phone आया था तो उन्होंने बस इतना ही बताया गया कि झगड़े में उनके बेटे के सिर में चोट लगी है और अब वह पूरी तरह से ठीक है. लेकिन उनकी तबीयत को लेकर परिवार जन चिंतित भी हैं और भगवान से दुआ कर रहे हैं कि बेटे सहित अन्य जो सैनिक वहां घायल हुए हैं भगवान उनको शीघ्र स्वस्थ करें

Like Our Page
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be the first to comment on "China हमले में घायल जवान की आंखों देखी, बताया गलवान घाटी में उस रात क्या हुआ था?"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*